दुनिया की पहली हैंड ट्रांस्प्लांट सर्जरी कराने वाले शख्स की 69 साल में मौत, 1998 में हुआ था पेचीदा ऑपरेशन

0
54


मेडिकल साइंस (Medical Science) इतनी तेजी से विकसित हो रही है जिसका अंदाजा लगाना भी नामुमकिन है. कई सालों पहले जो चीजें असंभव लगती थीं वो अब हकीकत बन रही है. विज्ञान में हो रहे बदलाव के कारण मेडिकल सुविधाएं भी अब बेहतर हो रही हैं. मगर 23 साल पहले चिकित्सा के क्षेत्र में एक ऐसा चमत्कार देखने को मिला था जिसने सभी को दंग कर दिया था. 23 सितंबर 1998 को एक शख्स को नया हाथ (Hand) मिला था जो मशीन से चलने वाला नहीं था!

दरअसल, हम बात कर रहे हैं दुनिया के पहले हैंड ट्रांस्प्लांट (First Hand Transplant) की. 1998 में जिस शख्स का नाम दुनिया का पहला हैंड ट्रांस्प्लांट (Hand Transplant) ऑपरेशन (Operation) के लिए दर्ज है उसकी हाल ही में मौत (Death) हो गई है. न्यूजीलैंड (New Zealand) के रहने वाले क्लिंट हैलम (Clint Hallam) की फ्रांस (France) के शहर लियॉन्स (Lyons) में मौत हो गई है जहां उनका हाथ के ट्रांस्प्लांट का ऑपरेशन भी हुआ था. डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिकक्लिंट की मौत एक बाइक एक्सिडेंट में हुई है. उनके हाथ का ट्रांस्प्लांट करने वाले सर्जन की टीम के एक ब्रिटिश डॉक्टर नाडे हाकिम (Nadey Hakim) ने भी उन्हें श्रद्धांजलि दी है. डॉक्टर ने कहा- “क्लिंट की तरह चिकित्सा के क्षेत्र में एक नए मेडिकल प्रोसीजर के लिए तैयार होने वाले पहले शख्स की तारीफ और चर्चा तो होनी चाहिए. उनकी मौत की खबर सुनकर मुझे बहुत दुख पहुंचा है.”

फ्रेंच सर्जन जीन माइकल डुबर्नार्ड (बाएं) के साथ क्लिंट हैलम. (फोटो: Twitter/@SurgeryLegends)

ऑपरेशन के कुछ सालों बाद फिर से काटना पड़ा था हाथ
आपको बता दें कि 1998 में क्लिंट का हाथ एक जेल में कैद के दौरान इलेट्रिक आरी से काट गया था. इसके बाद उन्हें तुरंत अस्पताल में भर्ती करवाया गया. फ्रेंच सर्जन जीन माइकल डुबर्नार्ड (Jean-Michel Dubernard) की कुल 17 सर्जन की टीम ने इस ऑपरेशन को अंजाम दिया. ये सभी डॉक्टर्स माइक्रो सर्जरी (Microsurgery) की दिशा में एक्सपर्ट थे. क्लिंट ने डॉक्टरों को ये बताया था कि उसका हाथ घर में काम करते हुए एक हादसे के दौरान कट गया मगर बाद में ये पता चला कि वो फ्रॉड के मामले में आरोपी है और जेल में बिजली से चलने वाली आरी पर उनका हाथ पड़ गया था जिससे वो कट गया. ऑपरेशन के 4 महीने बाद उन्होंने एक इंटरव्यू दिया जिसमें उन्होंने गर्व से पत्रकारों को दिखाया कि वो कितनी आसानी से पियानो बजा सकते हैं और बियर की बोतल पकड़ सकते हैं. मगर समस्या तब खड़ी हुई जब उन्होंने अपने नए हाथ का ध्यान नहीं दिया और दवा के कुछ साइड एफेक्ट होने के कारण उन्होंने दवा लेना ही बंद कर दिया. इसके बाद उनका हाथ सड़ने लगा और साल 2001 में हाथ को काटना पड़ा.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here