कमाल की है इन डॉग्स की दिलेरी, 13 हजार फीट की ऊंचाई से लगा देते हैं छलांग, उठाते हैं डाइविंग का लुत्फ

0
125


स्काई डाइविंग (Sky Diving Adventure) करना बहुत लोगों की बकेट लिस्ट में शुमार होता है, लेकिन इसके लिए बड़ी हिम्मत जुटानी पड़ती है. हजारों फीट की ऊंचाई से नीचे देखने में ही चक्कर आ जाते हैं, ऐसे में डाइविंग आसान नहीं होती. हालांकि इंसान छोड़िए दुनिया में कुछ ऐसा जांबाज कुत्ते भी हैं, जो 13000 फीट से नीचे छलांग (Sky Diver Dogs) लगा देते हैं.

ये कुत्ते यूं ही नहीं हजारों फीट (dogs jump from 13000 feet) से कूदने की हिम्मत जुटा पा रहे हैं. दरअसल इसके लिए इन्हें खासा प्रशिक्षण दिया गया है. अपनी जांबाज आर्मी के लिए मशहूर Russia की युद्ध टीम (Russia Army) का हिस्सा हैं ये दिलेर डॉग्स. इनकी कुछ तस्वीरें खूब वायरल हो रही हैं. इन तस्वीरों में डॉग्स 13 हजार फीट की ऊंचाई से डाइव (dogs jump from 13000 feet) लगाते दिख रहे हैं. इतना ही नहीं ये काफी आराम से लैंड भी कर रहे हैं.

कमाल करते हैं रूस के War Dogs

रूस के डिफेंस मिनिस्ट्री टीवी चैनल की ओर से इनकी कुछ फुटेज जारी की गई है. उनकी ओर से बताया गया है कि आर्मी वॉर डॉग्स पर अब तक 8 टेस्ट किए जा चुके हैं और ये सभी सफल रहे हैं. 13 हजार फीट की ऊंचाई से इन्हें स्काई डाइविंग और लैंडिंग कराना इसी का हिस्सा है. अविश्वसनीय ऊंचाई से नीचे उतरने के बाद भी ये कुत्ते पूरी तरह सामान्य और सुरक्षित रहे और लैंडिंग के बाद कमांड फॉलो करने लगे. पैराशूट टेस्टिंग के विशेषज्ञ एंद्रे तोपोरकोव के मुताबिक इन कुत्तों ने 8 जंप के दौरान काफी अच्छा प्रदर्श किया है.

डाइविंग का लुत्फ उठाते हैं Dogs

विशेषज्ञों का कहना है कि उनके लिए कुत्तों को जंप कराने की चुनौती से ज्यादा उन्हें एयरप्लेन के अंदर ले जाने की चुनौती होती है. हालांकि उनका कहना है कि एक बार प्लेन के अंदर पहुंचने के बाद ये हवाई नज़ारे का लुत्फ उठाते हैं. प्लेन से जंप करते समय काफी शोर होने की वजह से इन्हें शांत कराने की ज़रूरत होती है. इसके लिए एक सैनिक इनके साथ ही जंप करता है, जो पहले भी डॉग के साथ वक्त बिता चुका होता है. ताकि डॉग उनके साथ सहज रहें.

ये भी पढ़ें- शादी में दुल्हन के सर सजा गोलगप्पों का ताज, सोशल मीडिया पर छाया मज़ेदार Video 

13000 फीट की ऊंचाई के बाद अब डिज़ाइन चीफ एलेक्सी कोजिन का कहना है कि वे 26 हजार फीट की ऊंचाई से भी इन डॉग्स को जंप कराकर इनकी टेस्टिंग करना चाहते हैं. इस दौरान उन्हें ऑक्सीजन सप्लाई करने की भी ज़रूरत पड़ेगी.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here