किचन में बरसों से टंगी पुरानी पेंटिग ने बदली महिला की किस्मत, रातों-रात बन गई करोड़पति

0
4


कहते हैं ना देने वाला जब भी देता है छप्पर फाड़ कर देता है. ये कहावत फ्रांस की रहने वाली एक महिला के ऊपर सटीक बैठती है. इस महिला का जीवन बेहद गरीबी में बीत रहा था. कई बार तो उसके पास खाने-पीने के लिए पैसे नहीं होते थे. लेकिन इस महिला को थोड़ा सा भी अंदाजा नहीं था कि उसके घर में ही करोड़ों का खजाना पड़ा हुआ है, वो भी आंखों के सामने. जी हां, महिला के घर में ही करोड़ों की बेशकीमती (Painting Worth Millions) चीज रखी हुई थी, लेकिन उसे इसकी भनक भी नहीं थी.

मामला फ्रांस (France) के उत्तरी भाग के कॉम्पैनियन से सामने आया यहां रहने वाली एक बुजुर्ग महिला के घर के किचन में सालों से एक पेंटिंग टंगी हुई थी. घर के किसी भी सदस्य को अंदाजा नहीं था कि एक दिन यही पेंटिंग उनकी किस्मत पलट कर रख देगी. चूल्हे के ऊपर लगा ये पेंटिंग धुएं से काला हो रहा था. लेकिन ये कोई आम पेंटिंग नहीं थी. ये 13वीं शताब्दी का रेयर पेंटिंग था, जिसे करीब 188 करोड़ रुपए में बेचा गया.

सड़ रहा था खजाना
इस गरीब महिला की पहचान छिपाई गई है. लेकिन बताया गया कि उसके अलावा घर के किसी भी सदस्य को इस पेंटिंग की अहमियत का अंदाजा नहीं था. महिला ने कई बार कहा था कि उसे लगता है कि ये पेंटिंग ख़ास है. लेकिन कोई उसका यकीन नहीं करता था. इस साल महिला ने अपना पुराना घर बदला तब उसके फर्नीचर को खरीदने आए एक शख्स की नजर इस पेंटिंग पर पड़ी. बस तभी से उसकी किस्मत पलट गई.


नीलामी में मिले करोड़ों
शख्स ने महिला को बताया कि ये कोई ऐसी-वैसी पेंटिंग नहीं है. ये 13वीं शताब्दी का आर्ट है जिसे चीमाबूए आर्टिस्ट ने तैयार किया था. वो अपने समय का मशहूर आर्टिस्ट था. वो लकड़ी के टुकड़े पर पेंटिंग करता था. हालांकि, उसने अपने किसी भी आर्टवर्क पर सिग्नेचर नहीं किया था. लेकिन शख्स को पूरा यकीन था कि ये उसी आर्टिस्ट की पेंटिंग है. जब उसने पेंटिंग को पेरिस के एक्टऑन नीलामी सेंटर में दिखाया तो ये बात कंफर्म हो गई. इस पेंटिंग को बाद में करीब 188 करोड़ रुपए में बेचा गया. अभी महिला को इसका कुछ हिस्सा मिला है. लेकिन इस महीने के आखिर तक उसे बची हुई सारी राशि मिल जाएगी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here