एक साथ 9 बच्चे पैदा कर चर्चा में आई थी ये मां, अब बदलने पड़ रहे हैं 1 दिन में 100 डायपर

0
114


अपने बच्चे किसे प्यारे नहीं होते हैं? फिर भी ज़रा सोचिए, अगर घर में एक साथ 9-9 न्यूबॉर्न (Woman gives birth to nonuplets) बच्चे हों, तो ज़िंदगी कैसी हो जाएगी? 26 साल की हलीमा सिसे (Halima Cisse) इस बात का जवाब अच्छे से दे सकती हैं. कुछ वक्त पहले ही वो इतने बच्चों को एक साथ जन्म देकर (Woman gave bith to 9 children) चर्चा में आई थीं, आज एक बार फिर वो सुर्खियों में हैं, इससे जुड़े संघर्ष को लेकर. हलीमा और उनके पति बच्चों की सेवा में 24 घंटे शिफ्टों में काम करते हैं.

हलीमा का नाम गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड (World Record) में शुमार है. उन्होंने एक साथ 9 बच्चों नेचुरली जन्म देकर दुनिया को हैरान कर दिया था. हालांकि अब खुद को हैरान हो चुकी हैं, एक साथ इतने बच्चों की देखभाल करके. उन्हें दिन में 100 नैपीज़ रोज़ाना बदलनी (Woman changes 100 nappies in a day) पड़ती हैं जबकि 9 बच्चे मिलकर 6 लीटर दूध पी जाते हैं. इस काम में हलीमा और उनके 24-24 घंटे लगे रहते हैं.

बच्चों के ज़िंदा रहने की उम्मीद थी कम

हलीमा के बच्चों का जन्म कैसाब्लैंका ( Casablanca, Morocco)की ऐन बोजरा क्लिनिक में हुआ था. सी-सेक्शन के ज़रिये इस दुनिया में आए इन बच्चों का वज़न पानी की एक बोतल जितना था. इन्हें इंटेंसिव केयर यूनिट में रखा गया, जिसके बाद सभी बच्चे सर्वाइव कर गए. हलीमा बताती हैं कि बच्चों के जन्म के वक्त उनके मन में तमाम सवाल चल रहे थे. जब उन्हें पता चला कि कुल 9 बच्चे उनके पेट से बाहर आए हैं, तो वे चौंक गईं. उन्हें ऑपरेशन बेड से ही ये चिंता सता रही थी कि आखिर इन बच्चों की देखभाल वो कैसे कर पाएंगी? हालांकि डॉक्टर्स सोच रहे थे कि इनमें से कुछ ही बच्चे बच पाएंगे, लेकिन सरकार की मदद से उनके सभी बच्चों को अच्छा इलाज मिला और वे बच गए.

ये भी पढ़ें- रातभर में 20 साल पीछे चली गई शख्स की याददाश्त, स्कूल जाने की कर ली तैयारी, बीवी को बता दिया किडनैपर  

अब पालने में हो रही है हालत खराब

सरकार की मदद से हलीमा के सभी बच्चे सर्वाइव कर गए. वो बात अलग है कि एक साथ 9 बच्चों को जन्म देने के बाद हलीमा खुद काफी कमज़ोर हो चुकी हैं. उनके शरीर की रिकवरी भी ठीक से नहीं हो पाई है, इसी बीच बच्चों का ढेर सारा काम उन्हें और थका रहा है. 9 बच्चों की ज़रूरतों को पूरा करना उनके लिए मुश्किल साबित हो रहा है. सरकार की ओर से उन्हें आर्थिक मदद तो मिल ही रही है, लेकिन शारीरिक मेहनत और थकावट से वो परेशान हो चुकी हैं. दिन में 100 नैपीज़ बदलना और 9 बच्चों के लिए लगातार दूध तैयार करना आसान नहीं है. हलीमा पिछले 3 महीनों से लगातार यही कर रही हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here